Ramdaha Waterfall Manendragarh Chhattisgarh

दोस्तों उत्तरी छत्तीसगढ़ में बहुत ही खूबसूरत व बारामासी झरना हैं, जो लोगों को मंत्र मुग्ध कर देती हैं। हाल ही में (30 August 2022) कोरिया जिला से अलग होकर नए बने जिला मनेन्द्रगढ़ में बहुत ही सुन्दर वॉटरफॉल हैं। जो घने वनों से आच्छादित हैं। ऊँचे-ऊँचे पहाड़ों से घिरे Ramdaha Waterfall को देखने, पिकनिक मनाने, घूमने के लिए लोग दूर-दूर से यहाँ आते रहते हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको रामदहा जलप्रपात के पहुंचने के माध्यम, कैसे पहुंचे, और कौन-कौन से रास्ते हैं, जाने का उत्तम समय कौन सा हैं, इन सब जानकारी को हम आपके साथ Share करेंगे। हमें आशा हैं की आपको यह जानकारी पसंद आएगी।

Ramdaha Waterfall Manendragarh | रामदहा जलप्रपात मनेन्द्रगढ़ छत्तीसगढ़ image
photo is cfor36garh instagram user

Ramdaha Waterfall Manendragarh | रामदहा जलप्रपात मनेन्द्रगढ़ छत्तीसगढ़

बनास नदी में 25 फीट की चौड़ाई व 120 फीट से भी ज्यादा की ऊंचाई से गिरती हुई झरना और कोई नहीं Ramdaha Waterfall है। जो बरसात के दिनों में अपने पुरे शबाब में होता हैं। तथा सामान्य दिनों अपनी खूबसूरती को चार-चाँद कर देता हैं।

बनास नदी की सबसे खूबसूरत जलप्रपात रामदहा झरना को ही माना जाता हैं। जो रामदहा जलप्रपात जनकपुर के नाम से प्रख्यात हैं। यह भरतपुर जनपद पंचायत के अंतर्गत आता हैं।

इस झरने की खूबसूरती को दीदार करने के लिए यहाँ बहुत ही खूबसूरत Point पे Watch Tower बनाया गया हैं। जहाँ से इनकी खूबसूरती अत्यधिक लुभावना हो जाता हैं।

सबसे से ज्यादा पर्यटक यहाँ छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के लोग यहाँ पिकनिक मनाने के लिए पहुंचते हैं। स्वच्छ जल की प्राकृतिक स्रोत होने के कारण इस जगह पर पानी को कोई कमी नहीं होता हैं। समुद्र के जैसे मुलायम रेत लोगो को बहुत भाती हैं, जिसके कारण यहाँ लोग घूमने के लिए आते रहते हैं।

How to Reach Ramdaha Waterfall Chhattisgarh

रामदहा जलप्रपात आने के लिए आपको ट्रैन या बस के द्वारा मनेन्द्रगढ़ पहुंचना होगा। मनेन्द्रगढ़ से यहाँ की दुरी लगभग 70 किमी के आसपास हैं। यहाँ पहुंचने के लिए कोरिया जिला प्रशासन द्वारा सड़क मार्ग को सुगम बना दिया हैं।

हम आपको यहाँ पहुंचने के दो रास्ता बता रहे हैं। हलाकि दूसरा वाले रास्ते को मनेन्द्रगढ़ के रहवासी ही उपयोग में लाते हैं। किन्तु आप एडवेंचर और ट्रैकिंग के शौक़ीन होंगे तो यह रास्ता भी आपके लिए मजेदार होगा।

प्रथम पहुंच मार्ग – मनेन्द्रगढ़ से जनकपुर आना होगा। जनकपुर से इनकी दुरी महज 35 किमी हैं। जनकपुर से भगवानपुर > घाघरा > रापा > छादा > मैनपुर > करवा > बेनीपुरा > उसके बाद रामदहा आना होता हैं।

द्वितीय पहुंच मार्ग – एक बार और हम बता देते हैं की अगर आप ट्रैकिंग की शौक़ीन हैं तब इस रास्ते से आने की सोचे – मनेन्द्रगढ़ से चुटकी के लिए रास्ता लेना होगा। उसके बाद आपको भावरपुर आना होगा। भावरपुर से आपका पैदल Tracking प्रारम्भ होगा। (गाइड रखना ना भूले। चूँकि यह जंगल, नदिया और पहाड़ों से होकर गुजरता हैं।)

इस रास्ते में आपको प्राचीन मंदिर, खुदाई से प्राप्त मूर्तियां देखने को मिलेगी। इसकी खूबसूरत लम्हा ये हैं की आपको मंदिरो के अलावा जंगल, पहाड़ और झरने बनाने वाली बनास नदी को पार करना होगा।

Best Time to Visit Ramdaha Jharna, Food & Accommodation

यहाँ आने का उत्तम समय बरसात के बाद होता हैं। बरसात के समय बनास नदी बहुत अधिक तेजी से चलती रहती हैं। जिसके कारण दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती हैं। यहाँ आने Best time सितम्बर से फरवरी माह हैं। शांत वातावरण और स्वच्छ जल मन को लुभा लेती हैं।

Food & Accommodation – मनेन्द्रगढ़ या बैकुंठपुर में आपको निजी होटल व खाने-पीने की सामान बजट फ्रेण्डली मिल जाएगी।

Tourist Places in Manendragarh District

दोस्तों अभी हाल ही मनेन्द्रगढ़ जिला बना हैं। हम आपको वही टूरिस्ट प्लेसेस के बारे में जानकारी देंगे जो मनेन्द्रगढ़ जिला में आ सकता हैं।

  • गुरु घासीदास टाइगर रिज़र्व – बाघों को संरक्षित करने के लिए संजय गाँधी नेशनल पार्क को गुरुघासी दास टाइगर रिज़र्व बनाया गया हैं।
  • ननकी घाट वॉटरफॉल – सोनहत के जंगलो में स्थित हैं, यह वॉटरफॉल।

Ramdaha Waterfall Video

This Video Credit to YouTuber – Dk808 YouTube Channel

Ramdaha Jharna
रामदहा जलप्रपात किस जिले में पड़ता हैं?

छत्तीसगढ़ राज्य के मनेन्द्रगढ़ जिला में पड़ता हैं।

रामदहा झरना की नदी पर स्थित हैं?

बनास नदी।

Best Time to Visit Ramdaha Waterfall?

September to February.

रामदहा जलप्रपात का पिन कोड क्या हैं?

497778

रामदहा जलप्रपात की फ़ीट की ऊंचाई से गिरती हैं?

लगभग 120 फ़ीट।

CgTourism Opinion – यह जगह बहुत सुन्दर हैं। पहाड़ों के बीच स्थित होने की वजह से सैलानियों का आना जाना लगा रहता हैं। आप यहाँ जाते हैं तो अपना ख्याल जरूर रखे साथ ही आपको तैरना नहीं आता हैं तो आप इस जगह पर बिल्कुल ना जाए। चूँकि यह बहुत ही गहरी व छोटे बड़े पत्थर नीचे दबे हुए हैं, जिससे यहाँ पैर फसने की आशंका बनी रहती हैं।

हमें आशा हैं की आप ने इस पोस्ट के माध्यम से सारी जानकारी हासिल कर लिए होंगे। आपका कुछ सुझाव या जानकारी देना होगा तो आप हमें नीचे Comment Box में दे सकते हैं।

Leave a Comment